ब्लॉग लिखने के दस बेहतरीन तरीके।

Updated: Jul 25




दोस्तों एक सफल ब्लॉग के लिए क्या सबसे इम्पोर्टेन्ट है एक ब्लॉग को सफलता दिलाने के लिए वो सबसे इम्पोर्टेन्ट क्या चीज़ है। क्या वो SEO है क्या वो keyword research है क्या वो सोशल मीडिया मार्केटिंग है। क्या है जो सबसे बेहतर ब्लॉग बनाता है क्या वो वेब डिजाइनिंग है। अगर आप जानेंगे और देखेंगे सफल ब्लोग्स को तो आप जान पाएंगे सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है कंटेंट, पोस्ट आपका ब्लॉग पोस्ट आपका लेखन सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है। और हम इसी चीज़ को छोड़ कर बाकि चीजों पर ज्यादा ध्यान देते है।


हम SEO पर ज्यादा ध्यान देते है। हम लोग डेढ़ सारा रिसर्च करते है SEO पे keyword पे advertisement पे और जो ब्लॉगर स्टार्टिंग करते है वो इन चीजों पर बहुत ज्यादा ध्यान देते है। और जो अभी शुरुआत कर रहे है इन लोगो का सबसे ज्यादा ध्यान भटकता है। जब की उनको कंटेंट बनाने पर ज्यादा फोकस रखना चाहिए। कैसे बेहतर कंटेंट बनाये। अब तो Google भी कह चूका है content is the king, अगर कंटेंट बेहतर है बाकि आपको कुछ करने की जरूरत नहीं है। अपने आप ही सब कुछ होगा।


जैसे मान लीजिये कोई एक resturent है। जिसका की खाना बहुत अच्छा है। और वो advertisement पर बिलकुल ध्यान नहीं देते। लेकिन फिर भी जो लोग उसके यहाँ खाना खाने आते है। वो लोग बहार जाकर कई लोगो को बताएँगे और फिर जिनको बताया है वो लोग भी आएंगे और वो खुद भी दुबारा आएंगे। क्यों की उसका खाना बहुत लाजबाब है। इसी तरह धीरे धीरे करके काफी लोग अपने आप ही वहां आने लगेंगे और वो अपने आप ही वो फेमस हो जायेगा।


दूसरी तरफ एक और रेस्टोरेंट है जिसमें खाना अच्छा नहीं मिलता लेकिन डिजाइन बड़ी अच्छी है बहुत सुन्दर डेकोरेशन किया हुआ है। और advertisement पर भी बहुत ज्यादा पैसे खर्च करता है। तो आप बताईये इन दोनों में से कोनसा सफल होगा। जाहिर सी बात है पहले बाला। सेम ब्लॉगर के साथ भी यही कहानी है अगर आप कंटेंट अच्छा नहीं बनाओगे। बाकि आप भाई चाहे जो करो आप डिजाइन खूब सूरत बना लो बढ़िया टेम्पलेट लेलो डेढ़ सारा SEO करलो kyeword यूज करलो पर कुछ नहीं होने वाला। बंदा एक बार विजिट करेगा लेकिन फिर से नहीं आएगा। इस टॉपिक पर हम यही चर्चा करने वाले है। की कैसे आप बढ़िया कंटेंट बनाये जो की लोग उसको बार बार पड़े। ज्यादा देर तक आपकी वेबसाइट पर रुके। आपके ऊपर लोग ट्रस्ट करे, ऐसा कंटेंट कैसे बनाये। चलिए देखते है इस टॉपिक में।




1.सबसे पहली बात जो इम्पोर्टेन्ट भी है देखिये किसी भी कंटेंट की जो स्टार्टिंग होती है। वो मेन फोकस पॉइंट होता है। वहाँ से ही व्यक्ति का इंट्रेस्ट बनता भी है और वही से बिगड़ भी जाता है। तो सबसे ज्यादा ध्यान जो देना है। वो स्टार्टिंग पर देना है। आप जोभी ब्लॉग आप लिख रहे है। पहले पचास से साठ जो शब्द है

और हा अभी तक ज्यादातर लोग ने बतया होगा की ब्लॉग की शुरुआत keyword से कीजिये लास्ट में keyword लगाइये और वो बीच बीच में kyeward लगा लीजिये है आप ये सब भूल जाइये। की आपको क्या करना है पहले जो पचास से साठ शब्द है उनको इस तरह का बनाइये की लोगो को आगे पड़ने में रूचि आने लगे। लोग सोचे की इसे हमें आगे पड़ना है। जैसे की कुछ सबाल डालिये। इसमें ऐसा कुछ डालिये की इस कंटेंट में क्या खास है। जो बाकि जगह नहीं है। ऐसा कुछ खास बताइये, और बहुत ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। जितना आप पूरे कंटेंट पर ध्यान दे रहे है। मान लीजिये। आप 700 शब्दों पर ध्यान दे रहे है। 700 शब्द की आपकी कोई पोस्ट है। तो पहले आप साठ शब्दो पे या 100 शब्दों पर ध्यान लगाइये इतना बेहतरीन लिखिए।


2. आप अपना जो कंटेंट बना रहे है। उसे टुकड़ो में बाटिये। छोटे छोटे पैराग्राफ में। ऐसा मत कीजिये की आप बड़े बड़े पैरा ग्राफ़ लिखने लग जाओ। या पूरा एक ही में लिख दे ऐसा भी मत कीजिये। थोड़ा फॉन्ट बड़ा लीजिये और छोटे छोटे चार पांच लाइन के पैराग्राफ लिखिए। आप एक पैराग्राफ में एक ही टॉपिक पर बात लिखिए। अब आप मान लीजिये की आपको बहुत ज्यादा एक साथ खाना खाने को दे दिया जाये। या फिर कोई बहुत मोटी किताब एक साथ पड़ने को दे दी जाए। तो आप तो वैसेही डर जाओगे। जैसे इन मोटी किताबो को देख कर अक्सर स्टूडेंट डर जाया करते है। और वो इसी लिए इन किताबो को पड़ते नहीं है। और अगर हम पतली पतली किताबे उनको देंगे तो वो आराम से उनको पड़ सकते है। और अगर हम थोड़ा थोड़ा खाना करके देंगे तो आदमी खा लेगा। इसी तरह आपको छोटे छोटे पैराग्राफ बनाने है जो की आसानी से पड़े और समझे जा सके।


3. आप जो भी लिख रहे है। आप उसकी रूप रेखा पहले से बना ले। आप एक आउट लाइन खींच ले की में यहाँ से लेकर वहां तक कवर करूँगा । ऐसा मत करे की कही की बात आप कही और ले जाये। और घुमा फिरा कर उसको जोड़ने लगे, ऐसा मत करे। आप सीधे सीधे up to the point बात कीजिये। और उसको पहले ही अपने दिमाग में बना लीजिये। की में यहाँ से शुरू करूँगा और यहाँ पे ख़तम करूँगा। एक आउट लाइन जरूल अपने कंटेंट की दिमाग मे खींच लीजिये।


4. मन लीजिये की कोई एक क्लास है बच्चो की, जहां पर बच्चे पढ़ाई कर रहे है। और एक टीचर अत्ता है जो बहुत ही किताबी भाषा में पढ़ाता है। और किताबी भाषा में ही बात करता है। और दूसरा एक टीचर आता है जो की बच्चो के साथ इंटरेक्शन करता है। जो बच्चो के साथ बातें करता है। और बीच बीच में बच्चो से सबाल करता है। यदि बच्चो बताओ ऐसा होता तो क्या होता यदि ऐसा होता तो क्या होता। तो कोनसा टीचर ज्यादा सफल होगा और किस टीचर की क्लास में बच्चे ज्यादा रूचि लेंगे। जाहिर सी बात है की दूसरे वाले टीचर की क्लास में बच्चे ज्यादा रूचि लेंगे। तो आप भी ये ध्यान रखिये। की आपको भी दूसरा वाला टीचर बनना है। कोई भी किताबी भाषा में मत लिख दीजिये। आप अपनी भाषा में लिखिए जो नार्मल कन्वर्जेशन की भाषा होती है बोल चाल की भाषा होती है। उसमे लिखिए। और जो पाठक है आपके उनके साथ इसी तरह से सम्बन्ध बनाइये और इसी तरह की बाते कीजिये। जिस तरह उनसे बीच बीच सबाल करिये। यदि ऐसा न होता तो ये हो जाता अगर ऐसा न होता तो वैसा हो जाता। इस तरह के कुछ सेंटेंस बीच बीच में डालिये,




5. अपने कंटेंट को रोचक बनाये। और डेढ़ सारे रोचक शब्दों का इस्तेमाल कीजिये। लेकिन हा आसान भाषा वाले। ऐसा मत कीजिये गा। की आप बहुत रिच शब्दाबली का प्रयोग करने लग जाये। बहुत ज्यादा कठिन शब्द आप डाल दे। जिससे की यूजर को पचाने में, आपका जो रीडर है उसको पचाने में मेहनत करनी पड़े। ऐसा मत कीजिये गा। सादा और शुद्ध भाषा में लिखिए गा। आसान भाषा में लिखिए सामान्य बोल चाल की भाषा में लिखिए। आसानी से पढ़ा जाये ऐसी योग्य भाषा में। रोचक बनाने के लिए बीच बीच में कुछ शब्द दाल दीजिये। जैसे कहिये सबसे रोचक बात तो ये है। सबसे अनोखी बात तो ये है। इस तरह के कुछ सेंटेंस जोड़ देंगे तो जो रीडर का इंट्रेस्ट है वो बन जाता है। की भई आगे क्या लिखा होगा। सबसे अनोखी बात तो ये हुई। सबसे मजे की बात तो ये है। इस तरह की बाते अगर आप जोड़ेंगे। अब जो लेख होगा न आपका वो बात करेगा। और लोट लोट के लोग आएंगे की आज क्या लिखा होगा। आज इस टॉपिक पर क्या लिखा होगा। अपने किस तरह सोचा होगा, ये सब लोग सोचेंगे और गूगल पे सबसे ज्यादा सर्च करके रहेंगे।


6. जब भी आप टॉपिक लिखे तो एक बार अपने दिमाग को फ्री छोड़ दीजिये। मतलब की मान लीजिये की आपने बहुत सारी रिसर्च करि है आपने किसी चीज़ के बारे में ढेर सारा दुनिया भर से डेटा इखट्टा कर लिया है। इसके बाबजुत भी नया कहा से लाएंगे। क्यों की आपके कंटेंट में नया पन होना भी जरूरी है। तो आप क्या करेंगे आप अपने दिमाग को फ्री छोड़ देंगे। free thinking जिसको बोलते है। वो करिये। उसमे आप ढेर सारी सुचुएसन डाल कर देखिये। यदि ये नहीं हुआ होता तो यदि वो नहीं हुआ होता तो। यदि ऐसा हो जाये तो इस तरह की ''तो '' वाली सुचुएसन को create करना सीखिए। जिससे आपका जो लेखन है वो और बेहतर हो। creative होगा और लोगो को पड़ने में बहुत मजा आएगा।


7. शब्दों की जो सीमाएं है उसका आप ध्यान रखिये। जैसे की, ऐसा मत कीजिये की भइया आप लिख रहे है दो या तीन चार हजार शब्दों में। हा दो हजार शब्द में ठीक ठाक होता है लेकिन ऐसे लेख लिखना बेहतर होगा जिसमे की जानकारी हो। मान लीजिये पड़ने वाले बच्चों के लिये अगर आप कुछ लिख रहे है साइंस पे। तो उन्हें तो पड़ना ही पड़ना है ठीक है यदि अगर आप जनरल टॉपिक्स लिखते है। तो आपके लिए सात सो से लेकर एक हजार शब्द काफी है। इतने में लिखिए लिमिट में लिखिए। और इतना ज्यादा भी मत लिखिए की आदमी बोर हो जाये पड़ते पड़ते। खेर जैसा आपको लेखन बतया जा रहा है कोई व्यक्ति बोर नहीं होगा। फिर भी शब्दों की सीमा का ध्यान रखिये। जिससे की लोग आपके लेख को पूरा पड़े ऐसा न हो की आधा छोड़ कर चले जाये।


8. किसी के भी कंटेंट को as it is copy paste न करे कही से भी किसी के भी विचार हो सकते है। किसी का भी कंटेंट हो या किसी की सोच हो सकती है उसे कॉपी न करो। यदि अपने लिखा भी है। तो मान लीजिये किसी ने कोई कोट बनाया है आप जो कोट अपने कंटेंट में डालना चाहते है। तो प्लीज अपने हिसाब से उसको एडिट जरूल कर दिजिये ।


9. आप अपने कंटेंट में एक स्टोरी डालिये एक इमेजिनेशन डालिये। स्टोरी के साथ अगर आप सुरु करेंगे या बीच में कही स्टोरी डालेंगे। या कही भी किसी कंटेंट को स्टोरी के साथ कनेक्ट करेंगे तो उसमे ऑटोमेटिकली जो आपका रीडर है उसकी रूचि बढ़ जाती है। उसको इंट्रेस्ट आने लगता है। कोसिस कीजिये कही से या किधर से कनेक्ट कर सकते है स्टोरी से। तो जरूल कीजिये।


10. एडिटिंग editing मैं आपको क्या करना है आप जब भी लिखिए पूरा मन से लिखिए अपनी भावनाओ को पूरा उड़ेल के लिखिए। जबरदस्त लिखिए। लेकिन जब आप एडिट कीजिये तो अपनी भावनाओ को कीजिये साइड और जो भी आपको एक्स्ट्रा लगता है। उस सब को हटा दीजिये। आपको शार्ट रखना है। शार्प रखना है और आपको कोई भी जो वाक्य है उसको धोराना नहीं है। वो दुबारा न आजाये ये आपको ध्यान रखना है। और कोई भी अब्शब्द न आजाये वो भी आपको ध्यान रखना है। तो आपको उसको प्रोपरली एडिट भी करना है ये बहुत महत्वपूर्ण है। अगर अपने ये दस स्टेप्स पूरे फॉलो करलिए तो आप सफल ब्लॉगर बन जाओगे।


READ LATEST POST:---

1. हैल्थी रहने के पांच तरीके

2. अगर आपका बजन कम नहीं हो रहा है तो क्या करे

3. अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए 10 अच्छी आदतें को अपनाये।

4. मानसिक तनाव से होने वाले रोग

5. कैंसर के लकछड़

6. कोरोनावाइरस

7. बहरापन और सुनने में तकलीफ होना।

8. पानी पीने का सही तरीका सीखिए

9. ग्लोइंग स्किन मुँहासे मुक्त त्वचा पाने के घरेलू नुस्खे।

10.विटामिन्स और मल्टीविटामिन क्या हैं?

11.सक्सेसफुल लोग रोज क्या करते है जानिए।

12.टीके के काम और टीकाकरण

13.भावनाये क्या है और उनको कैसे जान सकते है?

13.(COVID-19) जनता के लिए कोरोनावायरस रोग की सलाह जानिए।

15. Want a fair complexion in 1 week, so read 5 tips

16. Ayurvedic treatment and prevention of joint pain: know about the use of food, exercise and medicine

0 views

© 2020 by Hhindi.com.
Proudly created by gaurav hhindi.com