पानी पीने का सही तरीका सीखिए

Updated: Jul 25



अगर आपको स्किन प्रॉब्लम एसिडिटी मसल पेन डाइजेशन प्रॉब्लम दिन भर लेजी फील होना या सर दर्द जैसी हैल्थ प्रॉब्लमस है तो रिसर्च के मुताबिक उसके पीछे सबसे पहला जो मैन कराड़ हो सकता है। वो है सही तरह से और सही मात्रा में पानी न पीना। इतने दिनों से आप जानते आये हो की पानी का दूसरा नाम जीवन है। आज के इस टॉपिक से पता चलेगा की कैसे सही तरह से पानी न पिने से वही पानी आपकी मोंत की भी वजहा बन सकती है

तो चलिए आज इस टॉपिक से जान लेते है। की दिन में कब कब और कितनी मात्रा में कैसे और किस तरहा से पानी पिने से आपके लिए वो उपयोगी होगा। क्यूंकि ये रियलिटी है की हम में से 90% लोग ही गलत तरह से पानी पीते है। और उसका सबसे पड़ा प्रूफ है। टॉपिक के सुरु में बताई गई बीमारिया। आज की तारीख में हम सब में इतना कॉमन पन लगता है। ओह गॉड आज तो में पुरे दिन में पानी पीना ही भूल गया। बस फिर एक लीटर की एक बोत्तल लेके गट गट करके एक बार में आप एक लीटर पानी पी गए। क्या आप जानते हो इससे आपको फायदा से ज्यादा नुकसान हुआ इस चीज़ को मेडिकल टर्म में वाटर इंटोक्सिकेशन या फिर वाटर पोइज़न भी कहा जाता है। हमारी शरीर की एक विशिष्ट छमता भी है। एक बार में पानी होल्ड करके रखने की और इस तरहा से अचानक बहुत ज्यादा पानी एक बार में ही पी लेने से हमारे ब्लड में वाटर पर्सेंटेज बढ़ने लगता है जिस वजह से हमारे शरीर में जो ईलेक्ट्रोलाईट्स होते है स्पेसली सोडियम एक्स्ट्रा पानी में घुल ने लगते है। जिस वजह से सेल्स के बहार से अंदर की तरफ पानी घुसने लगता है और ऐन एस अ रिजल्ट स्वैलिंग सुरु होने लगती है ये चीज़ जब हमारे ब्रेन सेल्स के साथ होने लगती है। तब सर दर्द होना थकान ऐसी कई तरह की परेशानी होने लगती है। इस तरहा की परस्थिति को मेडिकल टर्म में ह्यपोलट्रेमिअ कहा जाता है।


अब बात यह है की आप कैसे समझेंगे कि आपके शरीर में पानी की मात्रा सही है या नहीं आपका यूरिन कलर ये बताता है की आपकी बॉडी में पानी सही मात्रा में है या नहीं अगर आपका यूरिन कलर डार्क येल्लो होता है तब वो आपकी बॉडी में पानी जरूरत से काम मात्रा में होने को बताता है। अगर आपका यूरिन कलर बिलकुल साफ पानी की तरहा है तो आपकी शरीर में पानी को जरूरत से ज्यादा मात्रा में होने को बताता है। पानी की कमी या ज्यादा होना ये दोनों चीज़ हमारी बॉडी के लिए सही नहीं है। अगर आपका यूरिन कलर बिलकुल लाइट येल्लो है तो वो आपकी बॉडी में सही मात्रा में पानी मौजूद होने को बताता है। इसलिए आपका यूरिन कलर एक बहुत ही अच्छा साधन है इसके अलावा जब आप खड़े रहके या चलते चलते अपना मुंह ऊपर की तरफ खोल कर पानी पीते हो तब पानी के साथ साथ बहुत ज्यादा हवा भी आपके शरीर में चली जाती है। जो आपके लिए एसिडिटी की भी वजह बन सकती है। तो क्या करना चाहिए,


आईडिया नंबर 1 . हमेशा धीरे धीरे पानी पियो।


1. सबसे पहले तो एक बार में 300 ml मतलब तीन घूट से ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए।

2. पानी पिते वक्त कही पर भी शांति से बैठ के गिलास में या बोतल में मुंह लगाकर धीरे धीरे से पानी पीना चाहिए। क्यों की जब आप धीरे से पानी पियोगे तब आपके मुंह के अंदर जो इन्जाइम्स है उनको पानी के साथ मिलकर आपके पेट तक पहुंचने का मौका मिलेगा। जो भोजन को हजम करने के लिए बहुत ही फायदे मंद है।


आईडिया नंबर 2 . खाना खाते समय पानी नहीं पीना है।


क्या आप भी उन लोगो में से एक हों जो खाना खाते वक्त पानी पिए बिना नहीं रह सकते। आज कल तो कुछ लोग कोल्ड्रिंक के बिना भी खाना नहीं खा पते। वो तो और भी खातर नाक है। अगर आप भी इनमे से एक हो तो पॉसिबिलिटी है की आप भी ज्यादा तर टाइम एसिडिटी या डाइजेशन प्रॉब्लम में सफर करते हो। क्यूंकि बिलकुल हम जैसे खाने को पकाके कहते है वैसे ही पका हुआ खाना हमारे पेट में जाने के बाद गेस्ट्रिक जूस के द्वारा वो खाना डाइजेस्ट होता है। मतलब कहा जा सकता है। की पेट में जाने के बाद वो खाना गेस्ट्रिक जूस के साथ वो फिर एक बार कूक होता है। तब जाकर वो खाना फाइनली हजम होता है।

लेकिन आप सोचिये जब आप एक बार खाना पका रहे हो तब अगर कोई आकर बार बार उसमे पानी डालने लग जाये। तब क्या वो खाना अच्छे से बन पायेगा। खाना खाते खाते जब आप पानी पीते हो। तब आपके पेट में बिलकुल यही सेम घटना घटती है।पानी पिने से गेस्ट्रिक जूस की डेंसिटी कम होने लगती है। इस वजह से खाना सही तरह से हजम नहीं हो पता है। और इसके कारण एसिडिटी इन प्रॉपर डाइजेशन और भी हजारो प्रॉब्लम दिखाई देने लगती है। तो क्या करना चाहिए खाना खाने के 30 मिनट पहले और खाना खाने के कम से कम 30 मिनट बाद पानी पीना चाहिए। अगर आप बहुत ही ड्राई फ़ूड खा रहे हो तब उस वक्त खाते खाते आप एक या दो घूट पानी पी सकते है। लेकिन वो सिर्फ गला गीला करने के लिए।


READ LATEST POST:---

1. हैल्थी रहने के पांच तरीके

2. अगर आपका बजन कम नहीं हो रहा है तो क्या करे

3. अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए 10 अच्छी आदतें को अपनाये।

4. मानसिक तनाव से होने वाले रोग

5. कैंसर के लकछड़

6. कोरोनावाइरस

7. बहरापन और सुनने में तकलीफ होना।

8. पानी पीने का सही तरीका सीखिए

9. ग्लोइंग स्किन मुँहासे मुक्त त्वचा पाने के घरेलू नुस्खे।


आईडिया नंबर ३ :- पानी पीने के दिनचर्या का पालन करें


अपने शायद इससे पहले भी सुना होगा। की हमरी बॉडी 75% पानी से बानी हुई है। लेकिन हर रोज पसीना टॉयलेट और सांसो के जरिये दो से ढाई लीटर तक पानी हमारे शरीर से बहार निकल जाता है। इसलिए इस पानी को फिर से स्टोर करने के लिए हमें हर रोज मिनिमम दो से ढाई लीटर पानी पीना चाहिए। लेकिन दिन में कब कब किस मात्रा में पानी पीना चाहिए सबसे पहले तो सुबह उठते ही ब्रश करना या कुछ खाने से पहले ही 300 ml या तीन घूट पानी पीना चाहिए। क्यों की रात भर सोने से हमारे मुंह में जो इन्जाइम्स जमा होते है वो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी होते है। और इसलिए इसे आयुर्वेदा में सोने से भी ज्यादा कीमती कहा गया है। लेकिन हम में से ज्यादा तर ही सुबह उठते ही सीधा ब्रश करने चले जाते है। जिस वजह से उन इन्जाइम्स को पेट तक पहुंचने का मौका ही नहीं मिलता तो कल से सुबह उठते ही आपका सबसे पहला काम होगा धीरे धीरे करके एक गिलास या 300 ml या तीन घूट पानी पीना होगा। इसके बाद इसके बाद आपको सुबह नास्ता करने के 30 मिनट पहले और नास्ता करने के 30 मिनट बाद 300 ml करके टोटल 600 ml पानी पीना होगा, बिलकुल इसी तरह दोपर को लंच करने से पहले और 30 मिनट बाद, और रात को भी डिनर करने से 30 मिनट पहले और तीस मिनट बाद 300 ml पानी पीना होगा। इस सिंपल तरीके को फॉलो करने से ही आप रोजाना 2 लीटर तक पानी पी सकते हो। जिससे की आपको खाना खाने से पहले और 30 मिनट बाद पानी पिने के बाद याद रहे इसलिए आप अपने मोबाइल फ़ोन का अलार्म क्लॉक भी यूज कर सकते हो या वाटर ड्रिंक रिमाइंडर का भी यूज कर सकते हो।


आईडिया नंबर 4. गलत समय पर पानी पीना बंद करे


पानी पिने का जैसे सही वक्त है वैसे ही ऐसे कुछ वक्त भी है जब आपको कभी भी पानी नहीं पीना चाहिए। उनमे से नंबर 1. खाना खाते वक्त और 2. टॉयलेट करने के तुरंत बाद ही आपको पानी नहीं पीना चाहिए। क्यों की उस वक्त हमारे मसल्स बिलकुल ही रिलेक्स रहते है। जिस वजह से ज्यादा तर पानी बॉडी में किसी काम में न आके फिर से निकल जाता है और इसके कारण बार बार टॉयलेट जाना पड़ता है। 3. रात को सोने से पहले भी पानी नहीं पीना चाहिए। क्यों की इससे आपको आधी रात में भी टॉयलेट जाने की वजह से नींद नहीं आती है और बार बार उठना पड़ता है। जिससे आपकी नींद को ख़राब और नुकसान पहुँचता है। और इसके कारण नींद अच्छे से नहीं आती है। तो इसलिए रात को सोने से पहले मिनिमम एक घंटा पहले थोड़ा सा ही पानी पीना चाहिए।

कोई इंटेक्स एक्सरसाइज या जॉगिंग करते वक्त या करने के तुरंत बाद ही बहुत ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए। क्यों की वर्कआउट करने से पसीने के जरिये बहुत सारी इलेक्ट्रोलाइट हमारे शरीर से निकल जाता है ऐसे में बहुत ज्यादा पानी पीने से बॉडी के बाकि इलेक्ट्रोलाइट भी पानी में घुल जाने की वजह से थकान उलटी ये सब दिखाई देने लगता है। इसलिए ऐसे में पानी पीने के बदले ग्लूकॉन-डी जैसी कोई ड्रिंक पीना चाहिए। जिससे शरीर में पानी ही नहीं बल्कि साथ साथ इलेक्ट्रोलाइट भी स्टोर हो सके।


आईडिया नंबर 5 हमेशा रूम टेम्परेचर का पानी पिए।


क्या आप भी उनमे से एक हो जो गर्मी में किसी भी जगह से आकर सीधा फ्रीज़ में जाकर हमला करते हो। और वहां से बर्फ की तरह ठंडा पानी निकाल के गट गट करके पी जाते हो। तो संभावना है की आपको कई बार सर्दी और डाइजेशन की प्रॉब्लम को भुगतना पड़ सकता है इसके अलावा आप ये जरूल जानते होंगे। हमारे शरीर का एक सही तापमान होता है। बर्फ की तरहा ठंडा पानी पिने से। तापमान को सही रखने के कार्य में रुकावट पैदा होती है और इसके कारण ब्लड प्रेशर को नियमित रूप से ठीक रखने में भी प्रॉब्लम दिखाई देने लगती है। तो क्या करना चाहिए। आपको हमेशा नार्मल रूम टेम्परेचर का पानी पीना चाहिए। जैसे की योगिक कल्चर के मुताबिक हमें हमेशा अपनी बॉडी के टेम्परेचर के मुताबिक मैक्सिमम 4’C तक कम या ज्यादा टेम्परेचर के अंदर का पानी पीना चाहिए। पानी का टेम्परेचर इससे ज्यादा या कम होता है तो वो हमारे शरीर में फायदे से ज्यादा नुकसान पहुँचता है।



तो चलिए एक बार फिर से हम सारे आइडियाज को रिकैप कर लेते है।

1. हमेशा धीरे से और एक बार में थोड़ा सा ही पानी पीजिये।

2. खाना खाते वक्त पानी मत पीजिये।

3. एक सही वक्त और एक सही क्वान्टिटी में पानी पिने के लिए एक सही रूटीन तय कीजिये।

4. गलत वक्त पर पानी मत पीजिये।

5. हमेशा रूम टेम्परेचर का पानी पीजिये।

जैसे की किसी ने कहा है ड्रिंक राइट अमाउंट ऑफ़ वाटर फॉर योर स्किन योर हेअर माइंड और फॉर योर बॉडी। अगर आपको इस टॉपिक से थोड़ी सी भी मदद मिले तो इसे शेयर जरूल करे।


READ LATEST POST:---

1. हैल्थी रहने के पांच तरीके

2. अगर आपका बजन कम नहीं हो रहा है तो क्या करे

3. अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए 10 अच्छी आदतें को अपनाये।

4. मानसिक तनाव से होने वाले रोग

5. कैंसर के लकछड़

6. कोरोनावाइरस

7. बहरापन और सुनने में तकलीफ होना।

8. पानी पीने का सही तरीका सीखिए

9. ग्लोइंग स्किन मुँहासे मुक्त त्वचा पाने के घरेलू नुस्खे।



© 2020 by Hhindi.com.
Proudly created by gaurav hhindi.com